From a street vendor to a multi crore company: How Bhavesh Bhatia turned his blindness into his strength

Read this inspiring story of a Visually Challenged person:

http://yourstory.com/2015/04/street-vendor-to-multi-crore-company-bhavesh-bhatia/

Advertisements

सक्षम अबरार , नागपुर में स्थित ट्रेनीस को काशीनाथ लक्काराजू का भाषण : 6/1/2013

आज सारा देश से  आए हुवे सभी अबरार सॉफ्टवेर का शिक्शार्थियों को स्वागत और नमस्कार। आप सब को मालूम होगा क्या क्या कार्यक्रम सक्षम विकलांगों  के हित में करता है। वह सब दुबारा नहीं बोलना चाहता हूँ। लेकिन मै यह बोलना चाहूँगा ही सक्षम सारी सुविधा उनको उपयुक्ता कराने केलिए कोशिश करेगा। सक्षम इतनेसे संतुष्ट नहीं है की विकलांग जीवन में एक उपाधि पाया है। हम कोशिश करेंगे की वे सब देश के हित में काम करने केलिए सर्वदा सक्षम रहे। आज जो अबरार का अविष्कार देश व्याप्त हो रहा है आप के माध्यम से , सक्षम के उस उद्देश्य को ससमर्थन  करे यही हमारा आशा है। सारे  दुनिया में जो भी नया अविष्कार होता है , वह बहुत तपस्या  से और कष्ट से होता है। हमारे देश में ऐसा तपस्या करने वाले को ऋषि कहते है। इस अबरार का ऋषि है  शिरीषजी , जो आपके सामने है। मै इतना कहता हू की सक्षम अबरार के बारे में  बहुत मंथन किया है, अभी उस से उभरने वाले ज्यान की अमृत को हमारे दृष्टिहीन बंधू आस्वाद करे।

मेरा सोच  यह है की आप के  गुट में कुछ कंप्यूटर सॉफ्टवेर प्रोफेशनल्स होंगे, कंप्यूटर उपयुकत़ा  होंगे, कोई कंप्यूटर को पहले बार छू रहे होंगे। आप सब को एक गूगल ग्रुप या फेसबुक का ग्रुप बनाना है। सक्षम के वेबसाइट में भी एक अबरार का डिस्कशन फोरम बना सकते है। जिस में हम सब अबरार के उपयोग सरे विषयों का चर्चा कर सकते है। आप इन्टरनेट / अंतरजाल का उपयोग करना भी सीखे , क्योकि वह दुनिया को आपके मुट्ठी में लाती  है।
इसके लिए कंप्यूटर स्किन्स पढनेका जरूरत नहीं है।
आपके लिए gotomeeting.com भी उपयुक्ता होगा। जिसमे आप दुसरे तरफ का कंप्यूटर को आप  के नियंत्रण में ला सकते है। किसी को अबरार के हेतु मदद करना है तो आप  कर सकते है। आने वाले दिनों में अबरार और भी नए विशेषताओं के साथ संपन्न होकर आपके सामने आयेगा। जो विशेश्तहोन को इसमे जोड़ना है , वह सुचित करना आप के जिमीवारी है। अंतर्जाल में हम हर दिन संपर्क रख सकते है।
अबरार के द्वारा हम इस विवेकानंदजी का 150 जयंती संवत्सर में विकलांग नारायण का सेवा करे। मै  इतना कहते हुवे मेरे वानी को विराम देता हूँ।